Dadi Janki Inaugurates Sukh Shanti Bhawan in Bhopal

Dadi Janki Inaugurates Sukh Shanti Bhawan in Bhopal

enews No Comment
Madhya Pradesh
Brahma Kumaris

Bhopal, Madhya Pradesh: Accompanied by the tune of a police band, Dadi Janki, Chief of the Brahma Kumaris, unfurled the flag of the Supreme Soul to unleash a shower of flowers on everyone. Thus she inaugurated the Sukh Shanti Bhawan (BK Center) at Nilbar in Bhopal and dedicated it to public service and welfare. Musicians from Mount Abu added charm to this housewarming ceremony with their melodious renderings.

At this three-day-long Spiritual Retreat, 103-year-old Dadi Janki started her address with “Om Shanti.” She said that if we perform our daily actions by considering ourselves as the trustees of God, then there will be no tensions. Every soul has the 5 basic qualities of Purity, Truthfulness, Humility, Sweetness and Peace. These must shine in every human being. Purity in mind, words and deeds is the first basic principle of the Brahma Kumaris. Truthfulness in worldly affairs and sweetness and humility in character should be there. While performing any action, we must be soul conscious and free from attachment to its result.

Sharing her experience in London, she told the audience that when the Britishers asked her about her husband and children, she answered that the One who rules everyone’s hearts is her husband and Love, Peace and Happiness are her three children. This Bhawan (building) would cater to these three needs of the people of Bhopal. Later she guided people in experiencing peaceful vibrations through yoga.

Member of Parliament Mr. Alok Sanjar said that this Bhawan (building) is full of feelings: its bricks are made of love, cemented with dedication, and watered with peace and purity.

Director General of Police Maithilisharan Gupta said that today there is an atmosphere of dejection everywhere. Everyone is blindly running after money. The Brahma Kumaris are a whiff of fresh air creating a constructive environment for all. It is only with efforts like these that a Golden Age is possible on earth.

BK Avdesh (Zonal Head Bhopal) made everyone pledge to always keep true to the path shown by Dadi Janki.

BK Neeta (Administrator of Sukh Shanti Bhawan) said that it was only with the blessings of the Supreme Soul that a work of this magnitude was made possible. BK Bhopal from Shantivan and BK Anita from Chandigarh also addressed the gathering. More than 100 celibate Brahma Kumars were also felicitated. Kumaris from Chhatarpur enthralled everyone with their dance performance.

After the inauguration, Dadi Janki who is also the brand ambassador for Swachh Bharat Mission, went for a quick stroll of the city. She found it clean and vibrant and appreciated the administration for their efforts.

————————————————————————————————————————-

प्रेसनोट….
ट्रस्टी होकर कर्म करेंगे तो टेंशन नहीं होगा: दादी जानकी
– पुलिस बैंड की धुन पर दादीजी ने शिव ध्वजारोहण कर सुख-शांति भवन लोकसेवा को किया समर्पित
– योग से कराई शांति की अनुभूति, भोपाल की स्वच्छता की सराहना की और सुंदर शहर बताया
– सांसद आलोक संजर बोले- ये भावों से भरा केंद्र
09 जनवरी, भोपाल।
पुलिस बैंड की धुन और पुष्पवर्षा के बीच शिव ध्वजारोहण कर दादी जानकी ने बुधवार को ब्रह्माकुमारीज संस्थान के नीलबड़ स्थित सुख-शांति भवन को लोकसेवा, जनकल्याण और जनहित के लिए समर्पित कर दिया। इस दौरान माउंट आबू से पधारे गायकों की मधुर स्वर लहरियों ने गृह प्रवेश समारोह में चार चांद लगा दिए।
तीन दिवसीय आध्यात्मिक सत्संग महोत्सव में 103 वर्षीय दादी जानकी ने ओम शांति के महामंत्र के साथ संबोधन की शुरुआत की। दादी ने कहा कि यदि हम कारोबार करते हुए ट्रस्टी होकर रहेंगे और कर्म करेंगे तो टेंशन नहीं होगा। हर आत्मा में पांच गुण हैं- पवित्रता, सत्यता, नम्रता, मधुरता और शांति। इन गुणों को जानकर जीवन चरित्र में उतारना होगा। मन-वचन-कर्म की पवित्रता ब्रह्माकुमारीज का पहला धर्म है। कारोबार में सत्यता और व्यवहार में नम्रता-मधुरता हो। जीवन में शांति सबसे महत्वपूर्ण है। हम सभी आत्माएं पहले शांतिधाम फिर सुखधाम में जाती हैं। कर्म करते हुए हमारी अवस्था विदेही (आत्मा को देह से अलग होने की अनुभूति) और न्यारेपन की हो।
मेरे तीन बच्चे हैं- सुख-शांति और प्रेम: दादी
दादी जानकी ने लंदन का अनुभव सुनाते हुए कहा कि जब मैं पहली बार लंदन पहुंची तो वहां के लोगों ने पूछा कि आपके बच्चे नहीं हैं तो मैंने कहा कि मेरे दो बच्चे हैं- सुख और शांति। मेरा पति दिलवाला (परमपिता शिव परमात्मा) है। अब मेरा तीसरा बच्चा है प्रेम। जीवन का आधार सुख-शांति और प्रेम है। दिलाराम के साथ अच्छे से जीवन जीने का वरदान मिला है। इस भवन से भोपालवासियों की सुख-शांति की तलाश पूरी हो सकेगी। बाद में दादी ने सभी को योग से शांति की अनुभूति कराई।
ये भावों से भरा केंद्र है: सांसद
सांसद आलोक संजर ने कहा कि ये भावों से भरा केंद्र है। ये भवन प्रेम की ईंटें और श्रद्धा की रेत-सीमेंट से बना है और इसे सुख-शांति के पावन जल से सींचा गया है। चारों दिशाओं में सुख-शांति हो मेरी यही कामना। डीजी पुलिस मैथिलीशरण गुप्ता ने कहा कि आज चारों ओर नकारात्मकता का माहौैल है। धन की अंधी दौड़ चल रही है। ऐसे में ब्रह्माकुमारीज संस्थान समाज में सकारात्मक वातावरण का निर्माण कर रही है। ऐसे प्रयासों से ही धरती पर स्वर्ग आएगा।
सभी को कराई प्रतिज्ञा…
भोपाल जोन की जोनल निदेशिका बीके अवधेश ने सभी को प्रतिज्ञा कराई की दादी के बताए मार्ग पर सदा चलते रहेंगे। नीलबड़ सुख-शांति भवन की निदेशिका बीके नीता बहन ने कहा कि परमात्मा का ही कमाल है जो इतना विशाल भवन तैयार हो गया और जरा सी भी चिंता नहीं हुई। माउंट आबू से पधारे शांतिवन के प्रबंधक बीके भूपाल ने भी संबोधित किया। संचालन चंडीगढ़ से पधारीं बीके अनीता दीदी ने किया। माउंट आबू से पधारे सौ से अधिक बालब्रह्मचारी साधकों का साफा और चुनरी से सम्मान किया गया। छतरपुर से पधारीं छोटी बालिकाओं ने बहुत ही सुंदर मयूर नृत्य की प्रस्तुति दी।
स्वच्छ मिशन की ब्रांड एंबेसेडर ने भोपाल की स्वच्छता को सराहा….
महोत्सव के बाद शहर भ्रमण पर निकलीं स्वच्छ भारत मिशन की ब्रांड एंबेसेडर दादी जानकी ने भोपाल में साफ-सफाई देखकर यहां की स्वच्छता की जमकर सराहना की। दादी ने कहा कि भोपाल बहुत ही सुंदर शहर है। यहां के प्रशासन ने स्वच्छता पर विशेष काम किया है।

SuperWebTricks Loading...