Happiness is The Real Ornament of Life : Dadi Janki

Happiness is The Real Ornament of Life : Dadi Janki

enews No Comment
Madhya Pradesh
Brahma Kumaris

Bhopal, Madhya Pradesh: There is nothing impossible in this world, if people have faith in the will of the Supreme Soul. The Brahma Kumaris always succeed in whatever task they undertake, as they act only as the trustees of the Supreme, who takes the actual responsibility of performing everything. “Happiness is the most precious jewel, so always radiate joy from within.” These were the thoughts expressed by Dadi Janki at Sukh Shanti Bhawan’s inauguration in Bhopal.

She gave some tips for living a fulfilled life: For the successful completion of any task, it must be done with cooperation. Differences make each person unique and special. Sincerity is a must for a successful life. Each individual must always remember the 5 virtues: Purity, Truthfulness, Patience, Humility and Sweetness. One should try to live a life of sacrifice and austerity. Patience and peace should be constantly practiced.

Jaideep Prasad, IG Law and Order said that today, when we are faced with so many social challenges, spirituality can act as a trailblazer for a more equitable and just society.

Sayyid Mushtaq, Muslim priest from the city, said that all religions essentially show the path towards one Supreme reality only. Hence, we must remember the unity underlying this diversity. BK Awdesh (Head of Bhopal center) officially welcomed the guests. BK Neeta (Incharge of Sukh Shanti Bhawan) said that any work dedicated to God is sure to succeed. Various meditation courses would be offered free of cost at Sukh Shanti Bhawan for the general public.

Students from R.D. Memorial College performed song and dance sequences. The event saw the participation of various dignitaries from Bhopal including Dr. Sudaam Khade (Collector), Shikha Dube (Former secretary AYUSH Department), Hemanth Singh Chauhan (Head, R.K. Group of Institutes), Giani Dilip Singh from the Sikh Society, and an audience of more than 4,000 strong of the citizens of Bhopal.

खुशी जीवन का शृंगार: दादी जानकी

भोपाल: सारे संसार में कोई बात मुश्किल नहीं है। परमात्मा पिता पर विश्वास हो तो सब आसान है। ब्रह्माकुमारी बहनें जो संकल्प करती हैं वह पूरा हो जाता है क्योंकि सब कार्य परमात्मा शिव बाबा कराते हैं। ये सब शिव बाबा का कार्य है, ब्रह्माकुमारियां तो निमित्त हैं। करनकरावनहार तो बाबा है। भगवान कहते हैं- मेरे बच्चों तुम कोई भी फिक्र मत करो, सिर्फ मुझे याद करो, मैं तुम्हारे सारे कार्य आसान कर दूंगा। खुशी सबसे बड़ा गहना है, सदा खुशी में नाचते रहो। खुशी जीवन का शृंगार है।

उक्त उद्गार माउंट आबू से पधारीं ब्रह्माकुमारीज संस्थान की मुख्य प्रशासिका 103 वर्षीय राजयोगिनी दादी जानकी ने व्यक्त किए। वह ब्रह्माकुमारीज के नीलबड़ स्थित सुख-शांति भवन के उद्घाटन एवं आध्यात्मिक सत्संग महोत्सव के दूसरे दिन गुरुवार को सभा को संबोधित कर रही थीं। दादी ने कहा कि सुख-शांति भवन से भोपाल के भाई-बहनें सुख-शांति की अनुभूति कर सकेंगे।

दादी जानकी ने सुखमय जीवन के ये मंत्र भी दिए….

जैसे हाथ में पांचों अंगुलियों की अपनी विशेषता है, जब सभी मिलकर कार्य करती हैं तो सब आसान हो जाता है, वैसे इस दुनिया में प्रत्येक व्यक्ति महत्वपूर्ण है। जब हम मिलकर कोई कर्म करते हैं तो वह आसान हो जाता है और सफल होता है।

जीवन में सच्चाई से चलेंगे तो सुख मिलेगा।

पांच बातें हर एक के दिल में छपी हों- पवित्रता, सत्यता, धैर्यता, नम्रता और मधुरता।

यदि जीवन में त्याग-तपस्यामूर्त बनेंगे तो ही आत्मा का विकास होगा।

सदा धीरज रखो, शांति से रहो।

आध्यात्म ही एकमात्र मार्ग: आईजी

आईजी लॉ एंड आर्डर जयदीप प्रसाद ने कहा कि समाज में कई तरह के दु:ख, समस्याएं और तनाव है। ऐसी स्थिति में आध्यात्म ही एकमात्र ऐसा मार्ग है जिससे सभी समस्याओं का समाधान निकाला जा सकता है। आज समाज में ब्रह्माकुमारीज संस्थान द्वारा की जा रहीं सेवाएं को और बड़े स्तर पर चलाने की जरूरत है।

सबका मालिक एक है: शहरकाजी

शहरकाजी सैयद मुस्तक ने कहा कि सबका मालिक और परमात्मा एक है। उस मालिक की वंदना और आराधना करने के मार्ग अलग-अलग जरूर हैं लेकिन सभी धर्मों का मूल उद्देश्य अमन-चैन और शांति है। जब एक-एक व्यक्ति नेक नहीं बनेंगे तब तक शांति नहीं हो सकती है। हम उस मालिक को याद करेंगे तो वह हमें याद करेगा। परमात्मा की याद से जीवन सुख-शांति से गुजरेगा। उसे एक मानें और सब एक बनें।

भोपाल जोन की निदेशिका बीके अवदेश दीदी ने अभिनंद पत्र का वाचन किया। सुख-शांति भवन की निदेशिका बीके नीता बहन ने कहा कि भगवान के कार्य में हम कितना भी बड़ा संकल्प करें वह पूरा अवश्य होता है। राजयोग मेडिटेशन से मन की सुख-शांति मिलती है। भवन में सभी तरह के कोर्स आम नागरिकों के लिए नि:शुल्क कराए जाएंगे। 

कॉलेज के विद्यार्थियों ने प्रस्तुतियों से बांधा समां

महोत्सव में आर.डी मेमोरियल कॉलेज के विद्यार्थियों ने नमो…नमो गीत की धुन पर नौ देवियों की जोरदार प्रस्तुति दी, जिसे देखकर पूरा पांडाल तालियों से गूंज उठा। वहीं आकृति बहन एवं गु्रप के सदस्यों ने गली में आज चांद निकला गीत पर दादी के सम्मान में नृत्य की प्रस्तुति की। इसके अलावा बच्चों ने नंदिनी-वंदिनी, चलते-चलते…, आया नया रंग छाया आदि गीतों की धुन पर सांस्कृतिक प्रस्तुति दी। समापन पर सभी अतिथियों ने मिलकर केक काटा और दादी जानकी का 103वां जन्मदिन मनाया। संचालन चंडीगढ़ से पधारीं बीके अनीता दीदी ने किया। 

ये भी अतिथि के रूप में रहे उपस्थित….

दादी की सहयोगी माउंट से पधारीं बीके हंसा बहन, कलेक्टर डॉ. सुदाम खाडे, आयुष विभाग की पूर्व प्रिंसिपल सेक्रेटरी शिखा दुबे, इंदौर से क्षेत्रीय निदेशिका बीके हेमलता, छतरपुर से बीके शैलजा, आरडी मेमोरियल गु्रप ऑफ इंस्टीट्यूशन्स के चेयरमैन हेमंत सिंह चौहान, एनएचडीसी के चीफ एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर एजी अंसारी, डीएसीआईडीएस के वीएसएम यशवंत कुमावत, रेलवे विजिलेंस से आईपीएस एसएन शुक्ला, सिख समाज से ज्ञानी दिलीप जी, बौद्ध समाज से वंते सुमित सहित पूरे मध्यप्रदेश से पधारे चार हजार से अधिक नागरिकगण उपस्थित रहे।

SuperWebTricks Loading...